ऐसा छात्र जो प्रश्न पूछता है, वह ५ मिनट के लिए मुर्ख रहता है
लेकिन जो पूछता ही नहीं वह ज़िंदगी भर मुर्ख रखता है!


 खुद के काम की तुलना अपने काम से करने वाले लोग, दूसरों से मीलों आगे निकल जाते हैं.


रिश्ता उस किताब की तरह होता है, जिसे लिखने में सालों लग जाते हैं. लेकिन इस किताब के जलने में कुछ मिनट का हीं समय लगता है.


व्यक्ति मर जाता है, सभ्यताएँ बदल जाती है. लेकिन शब्द कभी निष्प्रभावी नहीं होते हैं.


व्यस्त होने से कोई व्यक्ति सफल नहीं हो सकता है, क्योंकि अगर वह बेकार से कामों व्यस्त है, तो सफलता कभी उसके पास नहीं जाएगी.


→ बेकार की व्यस्तता असफलता की जननी होती है.


जिंदगी की परीक्षा में ज्यादातर लोग दूसरों की नकल करते हैं, इसलिए वे असफल हो जाते हैं. क्योंकि जिंदगी में हर किसी का प्रश्न पत्र दूसरे के प्रश्न पत्र से अलग होता है.


जो मौलिक होता है, वही दूसरों से आगे निकल पाता है.


मुश्किलों में हिम्मत नहीं हारना चाहिए. बल्कि मुश्किलों पर पलटकर वार करना चाहिए.


प्रत्येक व्यक्ति अलग होता है, हर किसी की क्षमता और कमजोरियाँ अलग-अलग होती है. इसलिए न तो किसी और से अपनी तुलना करें. और न तो किसी और के जैसा बनने की कोशिश करें.


जब समय हमारा इंतजार नहीं करता है, तो हम समय का इंतजार करने में अपना समय क्यों बर्बाद करें.


जिंदगी हमें हर दिन कोई न कोई सबक सिखाती है, इसलिए नहीं कि हम उस सबक को पढ़ें…. बल्कि इसलिए ताकि हम उस सबक से कुछ सीखें.


हर दिन जिंदगी से कुछ नया सीखें.


आप कितनी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, यह उस वक्त मायने नहीं रखता है. जब आप गलत रास्ते पर जा रहे होते हैं. इसलिए समय-समय पर हमें यह गौर करना चाहिए कि हम सही रास्ते पर जा रहे हैं या नहीं.


जरूरतों को पूरा किया जा सकता है, लेकिन लालच की प्यास किसी तरह से नहीं बुझाई जा सकती है.